Sharad Purnima 2018 : शरद पूर्णिमा पूजन विधि, मुहूर्त, उपाय और इस दिन का महत्व

Sharad Purnima 2018 : शरद पूर्णिमा पूजन विधि, मुहूर्त, उपाय और इस दिन का महत्व

आज शरद पूर्णिमा (Sharad Purnima 2018) है। यह रात कई मायने में महत्वपूर्ण है। जहां इसे शरद ऋतु की शुरुआत माना जाता है, वहीं माना जाता है कि इस रात को चंद्रमा संपूर्ण 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है और अपनी चांदनी में अमृत बरसाता है। इसी वजह से लोग इस पूरी रात्रि को खीर बनाकर चांदनी में रख देते हैं, ताकि उसे प्रसाद के रूप में सुबह स्नान करके खाने के बाद निरोग हो पाएं

Sharad Purnima 2018

पूर्णिमा तिथि (Sharad Purnima 2018)

Sharad Purnima 2018 पूर्णिमा तिथि की शुरुआत 23 अक्टूबर को रात 10:38 हो चुकी है।
पूर्णिमा तिथि 24 अक्टूबर रात 10:14 बजे समाप्त हो रही है।

शरद पूर्णिमा का महत्व (Sharad Purnima 2018)

शरद पूर्णिमा काफी महत्वपूर्ण तिथि है, इसी

तिथि से शरद ऋतु का आरम्भ होता है। इस दिन चन्द्रमा संपूर्ण और सोलह कलाओं से युक्त होता है।

इस दिन चन्द्रमा से अमृत की वर्षा होती है जो धन, प्रेम और सेहत तीनों देती है। प्रेम और कलाओं से परिपूर्ण होने के कारण कृष्ण ने इसी दिन महारास रचाया था।

इस दिन विशेष प्रयोग करके बेहतरीन सेहत, अपार प्रेम और खूब सारा धन पाया जा सकता है

शरद पूर्णिमा व्रत विधि

पूर्णिमा के दिन सुबह इष्ट देव का पूजन करना चाहिए।

इन्द्र और महालक्ष्मी जी का पूजन करके घी के दीपक जलाकर उसकी गन्ध पुष्प आदि से पूजा करनी चाहिए।

ब्राह्मणों को खीर का भोजन कराना चाहिए और उन्हें दान दक्षिणा प्रदान करनी चाहिए।

लक्ष्मी प्राप्ति के लिए इस व्रत को विशेष रुप से किया जाता है। इस दिन जागरण करने वालों की धन-संपत्ति में वृद्धि होती है।

रात को चन्द्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही भोजन करना चाहिए।

मंदिर में खीर आदि दान करने का विधि-विधान है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन चांद की चांदनी से अमृत बरसता है।

शरद पूर्णिमा पर पूजा करने से क्या होता है लाभ 

1. शरद पूर्णिमा की रात जब चारों तरफ चांद की रोशनी बिखरती है उस समय मां लक्ष्मी की पूरा करने आपको धन का लाभ होगा।

2. मां लक्ष्मी को सुपारी बहुत पसंद है। सुपारी का इस्तेमाल पूजा में करें। पूजा के बाद सुपारी पर लाल धागा लपेटकर उसको अक्षत, कुमकुम, पुष्प आदि से पूजन करके उसे तिजोरी में रखने से आपको धन की कभी कमी नहीं होगी।

3. शरद पूर्णिमा की रात भगवान शिव को खीर का भोग लगाएं। खीर को पूर्णिमा वाली रात छत पर रखें। भोग लगाने के बाद उस खीर का प्रसाद ग्रहण करें। उस उपाय से भी आपको कभी पैसे की कमी नहीं होगी।

4. शरद पूर्णिमा की रात को हनुमान जी के सामने चौमुखा दीपक जलाएं। इससे आपके घर में सुख शांति बनी रहेगी।

शरद पूर्णिमा की कई और मान्यताएं

Sharad Purnima 2018 शरद पूर्णिमा को लेकर इसी तरह की कई और मान्यताएं भी हैं. यहां 5 पॉइंट्स में जानिए इस पूर्णिमा से जुड़े बाकि मान्यताओं के बारे में.

1. शरद पूर्णिमा को लेकर श्रीमद्भगवद्गीता में लिखा गया है कि इस पूर्णिमा की रात भगवान कृष्ण ने ऐसी बांसुरी बजाई थी कि सारी गोपियां उनकी ओर खीचीं चली आईं. शरद पूर्णिमा की इस रात को ‘महारास’ या ‘रास पूर्णिमा’ (Maha Raas Leela or Raas Purnima) कहा जाता है. मान्यता है कि इस रात हर गोपी के लिए भगवान कृष्ण ने एक-एक कृष्ण बनाए और पूरी रात यही कृष्ण और गोपियां नाचते रहे, जिसे महरास कहा गया. इस महारास को लेकर यह भी कहा जाता है कि कृष्ण ने अपनी शक्ति से शरद पूर्णिमा की रात को भगवान ब्रह्मा की एक रात जितना लंबा कर दिया. ब्रह्मा की एक रात मनुष्यों के करोड़ों रातों के बराबर होती है.

2. शरद पूर्णिमा को लेकर एक और मान्यता के मुताबिक इस रात धन की लक्ष्मी ने आकाश में विचरण करते हुए कहा था कि ‘को जाग्रति’. संस्कृत में ‘को जाग्रति’ का अर्थ है ‘कौन जगा हुआ है’. ऐसा माना जाता है कि जो भी शरद पूर्णिमा के दिन और रात को जगा रहता है माता लक्ष्मी उनपर अपनी खास कृपा बरसाती हैं. इस मान्यता के चलते ही शरद पूर्णिमा को ‘कोजागर पूर्णिमा’ (Kojagar Purnima) भी कहा जाता है.

3. इस पूर्णिमा को ‘कोजागरी पूर्णिमा’ (Kojagiri Purnima) भी कहते हैं. कहा जाता है कि इस दिन माता लक्ष्मी का जन्म हुआ था. इसीलिए शरद पूर्णिमा के दिन भारत के कई हिस्सों में मां लक्ष्मी की पूजा-अर्चना की जाती है.

Sharad Purnima 2018

4. शरद पूर्णिमा के दिन कुवांरी लड़कियां भी अच्छे वर के लिए व्रत रखती हैं. खासकर ओडिशा में शरद पूर्णिमा को ‘कुमार पूर्णिमा’ (Kumar Purnima) कहते हैं. इस दिन कुवांरी लड़कियां भगवान कार्तिकेय की पूजा करती हैं और शाम को चांद निकलने के बाद व्रत खोलती हैं.

5. शरद पूर्णिमा की इन मान्यताओं के अलावा इस रात बनाई जाने वाली खीर से भी कई बातें जुड़ी हैं. माना जाता है इस रात की बनी खीर को रात 12 बजे तक  खुले आसमान में रखने के बाद खाने से चर्म रोग, अस्थमा, दिल की बीमारियां, फेफड़ों की बीमारियां और आंखों की रोशनी से जुड़ी परेशानियों में लाभ होता है.