गर्मियों में मटके का पानी पीने से होने वाले फायदे (matke ka pani ke fayde)

गर्मियों में मटके का पानी पीने से होने वाले फायदे (matke ka pani ke fayde)

गर्मियों में मटके का पानी पीने से होने वाले फायदे (matke ka pani ke fayde) -जैसा कि हम जानते हैं गर्मियां आते ही ठंडा-ठंडा पानी पीने का ही मन करता है.

ऐसे में फ्र‍िज का पानी पीने के बजाये, मिट्टी के घड़े यानि मटके के पानी से बेस्ट और कुछ नहीं, गर्मी के दिन शुरु होते ही मिट्टी के घड़े यानि मटके की मांग शुरु होती है.

गर्मी में मटके का पानी जितना ठंडा और आरामदायक लगता है,

सेहत के लिए उतना ही लाभकारी भी होता है पीढ़ियों से, भारतीय घरों में पानी स्‍टोर करने के लिए मिट्टी के बर्तन यानी घड़े का इस्तेमाल किया जाता है.

आज भी कुछ लोग ऐसे हैं जो इन्हीं मिट्टी से बने बर्तनो में पानी पीते है.

और गरीबों के पास फ्रिज की सुविधा नहीं होती इसलिए वह पानी को ठंडा करने के लिए मिट्टी के मटके का इस्तेमाल करते हैं.

दरअसल, हम बता दे आपको मिट्टी में कई प्रकार के रोगों से लड़ने की क्षमता पाई जाती है.

इसमें लाभकारी मिनरल्स मौजूद होते हैं जो शरीर को विषैले तत्वों से मुक्ति दिलाते हैं. 

इसलिए घड़े में रखा पानी हमें स्वस्थ बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं.

इसलिए आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से बतायेंगे कि किस तरह घड़े का पानी मनुष्य को स्वस्थ बनाये रखने में उसकी मदद करता है.

तो आईये जानते हैं मटके का पानी पीने के फायदे.(matke ka pani ke fayde)

मटके यानि घड़े के पानी के फायदे गले के रोगों के लिए

फ्र‍िज के पानी की अपेक्षा (matke ka pani ke fayde) अधिक फायदेमंद है क्योंकि इसे पीने से कब्ज और गला खराब होने जसी समस्याएं नहीं होती. इसके अलावा यह सही मायने में शरीर को ठंडक देता है.

फ्रीज़ का ठंडा पानी से गले की कोशिकाओं का ताप अचानक गिर जाता है.

जिस कारण व्याधियां उत्पन्न होती है. जिससे गला पकने लगता है और ग्रंथियो में सूजन आने लगती है

और शुरू होता है शरीर की क्रियाओं का बिगड़ना, जबकि घड़े का पानी गले पर शांत प्रभाव देता है.

मटके यानि घड़े का पानी गर्भवती महिलाओं के लिए फायदेमंद (matke ka pani ke fayde)

गर्भवती को फ्रीज़ में रखें, बेहद ठंडे पानी को पीने की सलाह नही दी जाती है. उन्हें कहा जाता है कि वो घड़े या सुराही का पानी ही पिएं. इनमें रखा पानी ना सिर्फ़ उनकी सेहत के लिए अच्छा होता है,

बल्कि पानी में मिट्टी का सोंधापन बस जाने के कारण गर्भवती को बहुत अच्छा लगता है.

आईये जानते हैं कैसे ठंडा रहता है मटके का पानी

मिट्टी के बने मटके में सूक्ष्म छिद्र होते हैं. ये छिद्र इतने सूक्ष्म होते हैं कि इन्हें नंगी आंखों से नहीं देखा जा सकता.

पानी का ठंडा होना वाष्पीकरण की क्रिया पर निर्भर करता है.

जितना ज्यादा वाष्पीकरण होगा, उतना ही ज्यादा पानी भी ठंडा होगा.

इन सूक्ष्म छिद्रों द्वारा मटके का पानी बाहर निकलता रहता है.

गर्मी के कारण पानी वाष्प बन कर उड़ जाता है. वाष्प बनने के लिए गर्मी यह मटके के पानी से लेता है.

इस पूरी प्रक्रिया में मटके का तापमान कम हो जाता है और पानी ठंडा रहता है.

अतः मटके का पानी पीने के फायदे बहुत होते हैं. गर्मी में मटके का पानी पीना चाहिए.

मटके का पानी पीने के फायदे सेहत के लिहाज से काफी फायदेमंद होता है.

मटके का पानी पीने से शरीर के विषैले पदार्थ, जो शरीर में बीमारियां उत्पन्न करते हैं वह दूर हो जाते हैं.

मटके यानि घड़े का पानी में पीएच का संतुलन

घड़े का पानी पीने का एक और लाभ यह भी है कि इसमें मिट्टी में क्षारीय गुण विद्यमान होते है.

क्षारीय पानी की अम्लता के साथ प्रभावित होकर, उचित पीएच संतुलन प्रदान करता है.

इस पानी को पीने से एसिडिटी पर अंकुश लगाने और पेट के दर्द से राहत प्रदान पाने में मदद मिलती हैं.

मटके यानि घड़े का पानी चयापचय को बढ़ाता है

मिट्टी के घड़े का पानी पीना सेहत के लिए फायदेमंद है.

इसका तापमान सामान्य से थोड़ा ही कम होता है जो ठंडक तो देता ही है, चयापचय या पाचन की क्रिया को बेहतर बनाने में मदद करता है.

इसे पीने से शरीर में टेस्टोस्टेरॉन का स्तर भी बढ़ता है.

मटके यानि घड़े का पानी विषैले पदार्थ सोखने की शक्ति होती  हैं

इसमें मृदा के गुण भी होते हैं जो पानी की अशुद्ध‍ियों को दूर करते हैं और लाभकारी मिनरल्स प्रदान करते हैं.

शरीर को विषैले तत्वों से मुक्त कर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहती बनाने में यह पानी फायदेमंद होता है.

आईये जानते हैं मटके का पानी पीने के अन्य फायदे(matke ka pani ke fayde)

  • अगर आप दमा के रोगी हैं, तो भी मटके का पानी पिएं. लकवा पेशेंट्स को भी मटके का पानी नियमित तरीके से गर्मी में पीना चाहिए. इससे उनको फायदा मिलेगा.
  • मिट्टी के घड़े का पानी ठंडक तो पहुंचाता ही है साथ ही यह पाचन क्रिया को भी बेहतर बनाता है. गैस्ट्रिक और एसिडिटी की शिकायत दूर होती है.
  • घड़े का पानी पीने से शरीर में टेस्टोस्टेरॉन का स्तर भी बढ़ता है. मटके का पानी पीने से मेटाबॉलिज्म भी अच्छा रहता है.
  • मिट्टी के घड़े यानी मटके में रोगों को हरनेवाले गुण भरपूर होते हैं. इसमें मौजूद तत्व पानी की अशुद्ध‍ियों को दूर करते हैं.
  • इसे पीने से हमारे शरीर को जरूरी मिंरल्स भी मिलते हैं. चूंकि मटके का पानी प्राकृतिक तौर पर ठंडा होता है, इसकी ठंडक शरीर को कोई भी नुकसान नहीं पहुंचाती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *