Kismis – सुबह खाली पेट भीगे किशमिश खाने के स्वास्थ्य लाभ

Kismis – सुबह खाली पेट भीगे किशमिश खाने के स्वास्थ्य लाभ

लोग किशमिश (Kismis) को मेवा के रूप में प्रसाद के तौर पर ही खाते है या फिर कुछ लोग स्वाद के लिए भी खाते हैं। आपने भी देखा होगा कि लोग किशमिश को भिगोकर उसका पानी पीते है और किशिमिश को सुबह खाली पेट खा लेते है। आज कल की व्यस्त लाइफ के चलते हर कोई किसी ना किसी बीमारी से पीड़ित रहता है।

Kismis

जितनी लोगों को सुविधाएं मिल रही हैं उससे कई गुना ज्यादा नई-नई बीमारियां होती जा रही हैं। वहीं कुछ बड़ी बीमारियों में किशमिश (Kismis) के फायदे भी देखे गये। जब आपको भी इसके इतने बड़े फायदे के बारे में पता चलेगा तो आप भी चौंक जायेंगे।

शायद आप नहीं जानते होंगे कि किशमिश (Kismis) बड़ी बीमारियों में बहुत फायदेमंद दवा साबित हुई है। बाजारों में चल रही आर्टिफिशियल चीजों से हर कोई पेट की पीड़ा से परेशान रहता है। कब्ज और पाचन संबंधी समस्याओं के लिए कई लोग किशमिश का पानी पीते हैं वहीं किशमिश वजन बढ़ाने में भी काफी लाभकारी है।

किशमिश (Kismis) खाने के फायदों के बारे में तो आपने अक्सर सुना ही होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि किशमिश का पानी पीने से भी आपको हैरान करने वाले फायदे हो सकते हैं? नहीं न। आज हम आपको किशमिश का पानी पीने से होने वाले फायदों के बारे में अवगत करा रहे हैं।

Benefit of raisins (Kismis)

किशमिश (Kismis) का पानी लीवर में बायोकैमिकल प्रोसेस शुरु करता है, जिससे खून तेजी साफ से होने लगता है। अगर आप इस  ट्रीटमेंट को 4 दिनों तक लगातार करेंगे, तो आप पाएंगे कि आपका पेट बिल्कुलल ठीक हो चुका होगा और आपके अंदर ढेर  सारी एनर्जी भर गई होगी।

डॉक्टर अक्सभर लोंगो को रोजाना किशमिश (Kismis) सेवन करने की हिदायत देते हैं क्यों कि इससे हृदय मजबूत बना रहता है और खराब कोलेस्ट्रॉ ल दूर होता है तथा कब्ज और पेट की अन्ये बीमारी भी छूमंतर हो जाती है

किशमिश (Kismis) का पानी खून को साफ, लीवर जिगर के काम को बढ़ावा देने और पाचन बेहतर बनाए रखने में मदद करता है।  यह पेट के एसिड को कम करने में मदद करता है। इसे पीने के दो दिन बाद ही आपको पता चल जाएगा कि आपका खाना  कितने आराम से हजम हो रहा है और कब्जे तथा अपच का नामोनिशान भी नहीं है।

Kismis

किशमिश (Kismis) का पानी तैयार करने के लिए सामग्री :-

2 कप – पानी (400 ml)

150 ग्राम – किशमिश

किशमिश (Kismis)का पानी तैयार करने की विधि :-

इस पानी के तैयार करने के लिए ऐसी किशमिश (Kismis) का प्रयोग न करें जो देखने में काफी चमकीली हों, क्योंकि वो प्राकृतिक नहीं है बल्किे उनमें कैमिकल द्वरा चमकिला बनाया गया होता है।

आपको ऐसी किशमिश (Kismis) लेनी चाहिये जो गहरे रंग की हो और ना तो ज्यादा कठोर और ना ही लचीली हो। उसके बाद किशमिश को अच्छे से धो लें और किनारे रखें। फिर पैन में दो कप पानी उबाल लें। फिर उसमें धुली हुई किशमिश डाल कर रातभर के लिये छोड़ दें।

Kismis

अगली सुबह किशमिश (Kismis) छान कर पानी को पीने लायक गरम करें और इसे खाली पेट पिएं। किशमिश का पानी पीने के बाद 30 से 35 मिनट तक इंतजार करें और फिर नाश्ता करें। याद रखें कि इस विधि को 4 दिनों तक रोजाना करना है। साथ ही इसको हर महीने करें। बता दें कि इसका कोई भी खराब प्रभाव नहीं होता है।

अगर आप डाइट पर हैं और अपने आहार में लो फैट और ढेर सारे फल तथा सब्जिभयों को शामिल करते हैं, तो इस पानी को पीने से आपको और भी ज्या दा लाभ मिलेगा।

पानी पीने से कोलेस्ट्रॉल लेवल नॉर्मल रहता है और शरीर में ट्राईग्लिसेराइड्स को कंट्रोल करने में सहायक होता है। किशमिश (Kismis) अंगूर ही होता है जिसे सुखाकर किशमिश बनाया जाता है। किशमिश विटामिन्स और एनर्जी का भंडार है इसलिए जितनी अंगूर में एनर्जी होती है उतनी ही किशमिश में होती है।