Joint Pain Treatment हड्डियों और जोड़ों का दर्द का इलाज घर बैठे कैसे करे

Joint Pain Treatment हड्डियों और जोड़ों का दर्द का इलाज घर बैठे कैसे करे

Joint Pain Treatment जोड़ों का दर्द शरीर के किसी भी हिसे में हो सकता है .काफी समय बैठे रहने से, सफर करने से या उम्र बढ़ने से हमारे घुटने अकड़ जाते है या दर्द करने लग जाते है. जिसे हम जोड़ो  का दर्द या Joint Pain कहते है. जोड़ों का दर्द दो प्रकार का हो सकता है Osteo और Rheumatoid . कभी कभी  घुटनों के दर्द की वजह से पूरा पैर दर्द करने लग जाता है. जोड़ों का दर्द हमे पैरों के घुटनों, गुहनियों, गदर्न, बाजुओं और कूल्‍हों में हो सकता है.

जोड़ों का दर्द

जब किसी जोड़ में उपसिथ भंग हो जाती है तो हड़िया एक दूसरे से रगड़ खाने लग जाती है इस से सूजन , दर्द ऐंठन उत्पन होती है

जोड़ों का दर्द के कारण :– Joint pain treatment at home

* हड्डियों में मिनरल यानि की खनिज की कमी होना
* अर्थराइटिस
* बर्साइटिस
* कार्टिलेज का घिस जाना
* खून का कैंसर होना (Blood Cancer )
* उम्र बढ़ने के कारण
* हडियों में मिनरल की कमी

जोड़ों का दर्द का लक्षण-

हड्डियों और जोड़ों के दर्द के लक्षण हैं-

  • चलने, खड़े होने, हिलने-डुलने और यहां तक कि आराम करते समय भी दर्द
  • सूजन और क्रेपिटस
  • चलने पर या गति करते समय जोड़ों का लॉक हो जाना
  • जोड़ों का कड़ापन, खासकर सुबह में या यह पूरे दिन रह सकता है
  • मरोड़
  • वेस्टिंग और फेसिकुलेशन
  • अगर बुखार, थकान और वजन घटने जैसे लक्षण हों, तो कोई गंभीर अंदरूनी या संक्रामक बीमारी हो सकती है। आपको डॉक्टर से बात करना चाहिए।

नीचे दिए गए नुस्खो से आप जोड़ों (Joint Pain Treatment )का दर्द से छुटकरा पा सकते हैं –

Joint Pain Treatment शरीर में हड्डियों का कमजोर होना,उचित व्यायाम और भोजन में आवश्यक पोषक तत्वों के अभाव से जोड़ों के रोग प्रकट होने लगते है व बढ़ने लगते है|हालाँकि दवाओं के उपयोग से इस दर्द से सामयिक लाभ मिलता है पर इसका प्रामाणिक वैकल्पिक उपचार योग में उपलब्ध है जिसके अभ्यास से दर्द मुक्ति में शीघ्र लाभ होता है|

योग एक प्राचीन भारतीय तकनीक है जो दर्द को जड़ से उखाड़कर शरीर को रोगमुक्त करती है| योग शारीरिक स्वास्थ्य में सुधार कर मन को विश्रांति प्रदान करता है|

 विटामिन E जोड़ों के दर्द के लिए बहुत फायदेमंद होता है. खासतौर पर बादाम में पाया जाने वाला ओमेगा 3 फैटी एसिड सूजन और गठिया के लक्षणों को कम करने में मददगार होता है. बादाम के अलावा मछली और मूंगफली में भी पर्याप्त मात्रा में ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है.

  • पपीते में बड़ी मात्रा में विटामिन C पाया जाता है. विटामिन C न केवल इम्यून सिस्टम को बेहतर बनाता है बल्क‍ि ये जोड़ों की सेहत के लिए भी काफी फायदेमंद है.
  • एक गि‍लास पानी में एप्पल साइडर विनिगर मिलाकर पीने से जोडों के दर्द में फायदा मिलता है. इसके अलावा ब्रोकली खाने से भी गठिया में आराम मिलता है. ब्रोकली में कई ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो जोड़ों की सेहत लंबे समय तक बरकरार रखते हैं.
  • इसके अलावा सही साइज के जूते पहनकर, एक्सरसाइज करके और मोटापे को नियंत्रित रखकर भी आप जोड़ों के दर्द से राहत पा सकते हैं.

जोड़ों के उपचार व उन्हें शक्तिशाली बनाने के लिए निम्न योगासन उपयोगी है:

  • वीर-भद्रासन | Veerbhadrasana (Warrior pose)
  • धनुरासन | Dhanurasana (Bow pose)
  • त्रिकोणासन | Trikonasana (Triangle pose)
  • सेतु-बंध आसन | Setu Bandhasana (Bridge pose)
  • मकर अधोमुख श्वानासन | Makara Adho Mukha Svanasana (Dolphin Plank pose)
  • उस्ट्रासन | Ustrasana (Camel pose)

वीर-भद्रासन 

     how_yoga_can_keep_you_from_joint_pain

For Joint Pain Treatment यह आसन घुटनों को सुदृढ़ बनाता है तथा जकड़े हुए कन्धों को सक्रिय करने में सहायक है| यह कन्धों से तनाव मिटा कर शरीर को संतुलन प्रदान करता है|

धनुरासन

how_yoga_can_keep_you_from_joint_pain

धनुरासन बंध कंधो को खोलता है| यह पीठ को लचीला बनाता है| तथा शरीर से तनाव व जड़ता को दूर करता है|

सेतु-बंध आसन    

how_yoga_can_keep_you_from_joint_pain

यह आसन घुटनों की मांसपेशियों को मजबूत करता है तथा ऑस्टियोपोरोसिस(अस्थि सुषिरता) रोग में भी लाभकारी है| यह मस्तिष्क को शांत करता है| रोगी को चिन्ता से मुक्त कर शरीर के तनाव को कम करता है|

त्रिकोणासन

how_yoga_can_keep_you_from_joint_pain

त्रिकोणासन हमारी टांगों, घुटनों व टखनों को मजबूत करने में लाभकारी है| यह सायटिका व कमर-दर्द में भी राहत प्रदान करता है| यह घुटनों की नस, कमर, जंघा की संधि व नितम्ब में खिंचाव उत्पन्न कर उनको गतिशीलता प्रदान करता है|

उस्ट्रासन  

how_yoga_can_keep_you_from_joint_pain

यह कंधो व पीठ को मजबूती प्रदान करने वाला एक प्रभावशाली आसन है| इससे रीढ़ की हड्डी के लोच में वृद्धि होती है| शारीरिक मुद्रा में सुधार होता है तथा कमर के अधोभाग का दर्द को घटता है|

मकर अधोमुख श्वानासन

how_yoga_can_keep_you_from_joint_pain

यह आसन कंधो व घुटने की नसों में खिंचाव पैदा करता है| यह कलाई, भुजाओ व टांगों को मजबूत करता है, कमर दर्द में लाभकारी है तथा शारीरिक जड़ता को समाप्त करता है| यह आसन औस्टोपोरोसिस रोग से बचाव में भी सहायक है|

आवश्यक सावधानियां:

योगासन से जोड़ों का दर्द बढे नहीं, इसके लिए अभ्यास के दौरान शरीर को सहारा देने वाली वस्तुओं, तकियों व अन्य उपकरणों की सहायता लें| अपनी शारीरिक क्षमता से अधिक जोर न दें| अगर दर्द बढ़ जाता है तो तुरंत योगाभ्यास बंद कर दें व चिकित्सक से परामर्श करें|

स्वास्थ्य प्रद आहार: Joint Pain Treatment 

जोड़ तकनीक रूप से शरीर में उपस्थित हड्डियों के संधि स्थल है जिनकी सहायता शरीर के विभिन्न अंगो का मुड़ना, घूमना, झुकना, विसर्पण करना आदि क्रियाएँ संपन्न होती है| इन संधियों को स्वस्थ व मजबूत बनाये रखना इतना कठिन नहीं है जैसा हम समझते है| इसके लिए हमें सबसे पहले अपने आहार में सुधार करना होगा| विशेषज्ञों के अनुसार जलन व उतेजना पैदा करने वाले भोजन जैसे चीनी व ग्लूटेन प्रधान भोज्य पदार्थों का सेवन कम से कम करना चाहिए| हरी व पतेदार सब्जियां व फल लाभकारी होते है| अपनी जीवन चर्या में आयुर्वेद को अपनाकर भी हम इसकी पीड़ा कम कर सकते हैं|

योग, स्वस्थ जीवन के लिए एक प्राकृतिक व दोष रहित पद्धति है| इसके नियमित अभ्यास से व्यक्ति शारीरिक व मानसिक रूप से तन्दुरस्त रहता है| यह शरीर को ओजवान बनाता है और जीवन में गुणात्मक सुधार लाता है| योग का प्रभाव शनै: होता है अत: इसे हड़बड़ी में छोड़े नहीं| नियम पूर्वक अपने शरीर को योग का उपहार दीजिये और सभी प्रकार की पीडाओं से सदैव के लिए मुक्ति पाइए|

योग शरीर व मन को स्वास्थय सम्बन्धी अनेक लाभ प्रदान करता है| फिर भी यह दवा व अन्य उपचार विधियों का विकल्प नहीं है| यह आवश्यक है कि किसी कुशल प्रशिक्षक के निर्देशन में ही इसका अभ्यास किया जाये|

पीड़ा मुक्त रहने के कुछ खास नुस्ख़े: Joint Pain Treatment 

हल्दी और अदरक की चाय :

जोड़ों का दर्द

हल्दी और अदरक दोनों हो anti-inflammatorys होते है. और ये दोनों हमे जोड़ों के दर्द से भी शुटकरा दिला सकते है .
* २ गिलास पानी
* १/५ (1 / 5 ) चमच अदरक का पाउडर
* १/५ (1 / 5 ) चमच हल्दी का पाउडर
*  आप शहद भी ले सकते हो मिठास के लिए

ये नुस्खा बनाने की विधि :—

२ गिलास पानी को उबाल लीजये और उस में आधा आधा चमच हल्दी और अदरक पाउडर डाल लीजिए. और इस मिश्रण को १०-१५ (10 -15) मिनट शोड दिज्ये . उस के बाद उसमे शहद डाल भी डाल सकते हो और इस कड़े का  दिन में दो बार सेवन कीजिए

और कुछ ही दिनों में रिजल्ट आप के सामने आ जए गा.

मालिश (Massage) से जोड़ों के दर्द का इलाज Joint Pain Treatment

जोड़ों का दर्द

मालिश करने से जोड़ों के दर्द  को आराम मिलता है, मालिश लसुन के तेल, सरसों के तेल या नारियल के तेल से हल्के हाथो से करें

लहसुन (Garlic) से जोड़ों के दर्द का इलाज Joint Pain Treatment

लहसुन की 10 कलियों को 100 ग्राम पानी एवं 100 ग्राम दूध में मिलाकर पकायें। पानी जल जाने पर लहसुन खाकर दूध पीने से दर्द में लाभ होता है।

250 मि.ली. दूध एवं उतने ही पानी में दो लहसुन की कलियाँ, 1-1 चम्मच सोंठ और हरड़ तथा 1-1 दालचीनी और छोटी इलायची डालकर पकायें। पानी जल जाने पर वही दूध पीयें।

लहसुन की दो कलिया रोज सुबह खली पेट खाये. सरसों के तेल में लसुन की कलिया डाल कर भुन ले और दिन में दो बार  दर्द प्रभावित हिस्से पर लगए तथा मालिश करें. इस विधि से आप को बहत लाभ प्राप्त होगा.

लाल मिर्च पॉवडर(Red Chilli Powder ) से जोड़ों के दर्द का इलाज Joint Pain Treatment

लाल मिर्च का पाउडर भी जोड़ों के दर्द से राहत दिला सकता है

एक कप नारियल के तेल को गर्म करने के बाद उस  में दो चमच लाल मिरच पाउडर के डाल लीजिए और इस मिश्रण को दर्द से प्रभावित जगह पर 15 से  20 मिनट लगा कर रखे.ये विधि  आप के लिए लभदयिक साबित हो गी

निर्गुण्डी से जोड़ों के दर्द का इलाज

निर्गुण्डी के पत्तों का 10 से 40 मि.ली. रस लेने से अथवा सेंकी हुई मेथी का कपड़छन चूर्ण तीन ग्राम,सुबह-शाम पानी के साथ लेने से वात रोग में लाभ होता है। यह मेथीवाला प्रयोग घुटने के वातरोग में भी लाभदायक है। साथ में वज्रासन करें।

इसके अलावा आप इन नुस्खों को भी अपना सकते हैं। Joint Pain Treatment 

  •  अमरूद की 4-5 कोमल पत्तियों को पीसकर उसमें थोड़ा सा काला नमक मिलाकर रोजाना खाएं। इससे दर्द से राहत मिलेगी।
  •  काली मिर्च को तिल के तेल में जलने तक गर्म करें और ठंडा होने पर उसी तेल से जोड़ों की मालिश करें।
  • गाजर को पीसकर इसमें थोड़ा सा नींबू का रस मिलाकर रोजाना सेवन करें।
  • दर्द वाले स्थान पर अरंडी का तेल लगाकर, उबाले हुए बेल के पत्तों को गर्म गर्म बांधे इससे भी तुरंत राहत मिलेगी।
  • 2 चम्मच बड़े शहद और 1 छोटा चम्मच दालचीनी पाऊडर सुबह शाम एक गिलास गुनगुने पानी  से लें।
  • सुबह के समय सूर्य नमस्कार और प्राणायाम करने से भी जोड़ों के दर्द से छुटकारा मिलता है।
  • 1 चम्मच मेथी के बीच रातभर पानी में भिगोकर रखें। सुबह पानी निकाल दें और मेथी के बीजों को अच्छे से चबाकर खाएं।
  • गठिए के रोगी 4-6 लीटर पानी पीने की आदत डाल लें। इससे मूत्रद्धार के जरिए यूरिक एसिड बाहर निकलता रहेंगा।ध्यान रखेंः कोई भी नुस्खा अपनाने से पहले डॉक्टरी सलाह अवश्य लें।

Check Other Interesting Post

 

 

 

  • Sumit Saxena

    nice information

  • Sumit Saxena

    very useful

Like Our Facebook Page

FoodFactFun