Common Cold Symptoms ,Cold Medicine छींक , नाक से पानी , सिरदर्द , खांसी-के घरेलु उपचार

Common Cold Symptoms ,Cold Medicine छींक , नाक से पानी , सिरदर्द , खांसी-के घरेलु उपचार

Common Cold Symptoms ,सर्दी जुकाम cough and cold  छोटा सा नाम है लेकिन पस्त करके रख देता है । नाक से पानी , छींक , सिरदर्द , खांसी आदि से बुरा हाल हो जाता है। नाक बंद होने से साँस लेना भी मुश्किल हो जाता है। कभी कभी बुखार भी हो जाता है ।  खांसी शरीर की सुरक्षा प्रणाली का एक रूप है। जब गले में या फेफड़ों में कोई रूकावट आ जाती है तो खांसी चलती है जिसमे फेफड़ों से तेजी से हवा निकलती है ताकि रूकावट दूर हो जाये। साँस में रूकावट का कारण किसी प्रकार का तरल , बाहरी कण ,  सूक्ष्म जीवाणु या कफ आदि हो सकते हैं। खांसी सूखी भी हो सकती है|Common Cold Symptoms

किसी किसी को एलर्जी के कारण भी जुकाम हो जाता है। सुबह उठने के बाद जुकाम हो जाना एलर्जी के कारण हो सकता है। ऐसे में एलर्जी का उपचार लेना चाहिए या जानने की कोशिश करें की किस चीज से एलर्जी है और उससे बचना चाहिए ।

 

Common Cold Symptoms ,छींक , नाक से पानी , सिरदर्द , खांसी-के घरेलु  उपाय – gharelu nuskhe

 

  •  पान के पत्ते में चौथाई चम्मच अजवाइन रखकर चबाएं और रस निगलते रहें। कुछ दिन रोजाना लेने से सूखी खांसी ठीक हो जाती है।
  •   अदरक का रस एक चम्मच और शहद एक चम्मच दोनों को मिलाकर हल्का सा गुनगुना करके चाट लें। दिन में तीन बार लें। तीन चार दिन लेने से बलगम वाली खांसी में बहुत आराम मिल जाता है। बच्चों को कम मात्रा में देने से उनकी खासी ठीक हो जाती है
  •   एक कप पानी में 5 -6 तुलसी की पत्तियां उबालकर दिन में दो तीन बार पीने से जुकाम में राहत मिलती है।
  •  एक चम्मच शहद में दो चुटकी काली मिर्च के पाउडर मिलाकर चाटें। इसे सुबह शाम लेने से गला साफ होता है तथा जुकाम में आराममिलता है।
  •  गले में खराश या खांसी होने पर आधा चम्मच अदरक के रस में आधा चम्मच शहद मिलाकर लेने से बहुत आराम मिलता है।
  • अमरुद को भूनकर खाने से सर्दी खांसी जुकाम में आराम मिलता है। दो तीन दिन यदि सिर्फ ये अमरुद खाया जाये तो बहुत पुराना जुकामभी ठीक हो जाता है।

छींक , नाक से पानी , सिरदर्द , खांसी-के घरेलु  उपाय –

  •  पानी में नीलगिरी का तेल या टी ट्री आयल मिलाकर भाप लेने से कफ साफ होता ही है साथ ही बैक्टीरिया और वाइरस से भी बचाव होताहै। इसके लिए किसी बर्तन में दो गिलास पानी उबाल लें। उसमे  2 – 3 बूँद नीलगिरी का तेल और 4 – 5 बूँद टी ट्री ऑइल डालें। इस बर्तन से
  • भाप लेने के लिए मुंह को बर्तन के ऊपर लाते हुए तौलिये से चारों और से ढक लें ताकि भाप बाहर ना निकले। अब गहरी साँस लें। 5 -10 मिनट तक इस प्रकार भाप लें। दिन में दो तीन बार भाप लेनी चाहिए।
  • कफ वाली खांसी हो तो फिटकरी को पीस कर तवे पर भून लें। इस भुनी फिटकरी में दुगनी मात्रा पिसी हुई मिश्री मिला दें। ये मिश्रण आधाचम्मच सुबह शाम कुछ दिन लेने से बहुत लाभ होगा।
  • तुलसी के पत्ते – 11 , काली मिर्च -2 , सौंठ का चूर्ण – 1 चुटकी , अदरक टुकड़ा – 1/2 इंच  और सेंधा नमक ये सब दो कप पानी में डाल करउबाल लें। जब पानी आधा कप रह जाये तब छान लें। इसमें एक चम्मच पीसी मिश्री मिलाकर गुनगुना पियें। यह सर्दी , खांसी , कफ आदि में बहुत लाभ देता है

पौष्टिक  पदार्थ लें-

इस समय पाचकाग्नि तीव्र होती है, भूखे रहना नुकसानदायक होता है, इस दौरान घी, मक्खन, उड़द की दाल, गाजर का हलवा, गोंद के लड्डू, तिल के लड्डू,च्यवनप्राश ,बादाम पाक , मूंगफली, गुड पपड़ी  जैसे बल एवं शक्ति वर्धक पदार्थों का सेवन सीमित  मात्रा  में करना बेहतर रहता है ।

 

मालिश करें-

सुबह भ्रमण  से आने के बाद हो  सके तो  कुछ देर  सूर्य की धूप  में बैठ कर सरसों ,बादाम आदि के  तेल से मालिश करें सूरज की किरणों से  विटामिन डी मिलता है जो की हड्डियों  की मजबूती एवं ताकत  के लिए बहुत  जरुरी होता है l मालिश से स्वास्थ्य  सुधरता  है, त्वचा की कान्ति  निखरती  है शीत ऋतु   में वातावरण में रुक्षता होती  है

जिससे त्वचा एवं होंट  आदि फटने लगते है, त्वचा  रूखी हो जाती है, मालिश करने से त्वचा  में चिकनापन आता है,मांसपेशियां  मजबूत होती हैं, शरीर में खून का दौरा सुचारू रूप से चलता है, शरीर सुन्दर एवं सुगठित हो जाता है| इसलिए नित्य मालिश अवश्य करें l

 

शीत ऋतु में बीमारियों  से करें बचाव-

सर्दी में ठंडी चीजें जैसे आइस क्रीम, ठन्डे पेय एवं बासी भोजन का सेवन ना करें, ज्यादा ठण्ड होने पर अच्छी तरह गरम कपड़े पहन ओढ़ कर ही बाहर  निकलें, विशेष रूप से बच्चे, बूढ़े लोग एवं औरतें

खास ध्यान रखें, तापमान के घटने से इस समय रक्त गाढ़ा हो जाता है, इसलिए डायबिटीज,उच्च  रक्त चाप एवं हृदय रोगियों को अतिरिक्त सावधानी रखनी चाहिए|

 

Common Cold Symptoms, नाक बंद होने से बचने के उपाय – Prevention of stuffy nose

  1. सोते समय सिर को थोड़ा ऊँचा करके सोना चाहिए।
  2.  ठन्डे पेय या आइसक्रीम आदि ना लें।
  3.  तरल  पदार्थ का अधिक उपयोग करना चाहिए।
  4.  गर्म पानी , चाय , कॉफी सूप आदि लेने चाहिए।
  5.  पालतू जानवर के कारण एलर्जी हो तो उसे हटाना चाहिए।
  6.  कूलर या एसी के कारण जुकाम हो जाता हो तो इनसे बचना चाहिए।

  • Sumit Saxena

    nice info

Like Our Facebook Page

FoodFactFun