Swollen feet सूजे हुए पैरों के लिए आयुर्वेदिक और घरेलू उपचार

Swollen feet सूजे हुए पैरों के लिए आयुर्वेदिक और घरेलू उपचार

पैरों की सूजन (Swollen feet) कई कारणों से हो सकती है।  जोड़ों में द्रव्य का जमाव या हीमोग्लोबिन (hemoglobin) की कमी इसके प्रमुख कारणों से एक हो सकता है।  यदि द्रव्य का जमाव लम्बे समय तक एवं बगैर उपचार के रहा तो इससे विकृति या संक्रमण हो सकता है। पैरों की सूजन का सही कारण जानने के लिए आपको रक्त एवं मूत्र की जांच करवानी चाहिए।

यदि सूजन बनी रही तथा पैरों में गंभीर दर्द हो रहा हो, तो तुरंत चिकित्सकीय सहायता लें। पैरों की सूजन (Swollen feet) ऐसे व्यक्तियों में अधिक देखी जाती है जो किसी गतिविधि में भाग नहीं लेते या लम्बे समय तक एक ही मुद्रा में खड़े रहते हैं। पैरों की सूजन गर्भावस्था के दौरान होने वाली एक आम समस्या है।

Swollen feet

नीचे पैरों की सूजन (Swollen feet) दूर करने के कुछ घरेलू नुस्खे बताये गए हैं:

अदरक का सूखा पाउडर (Dry ginger powder for Swollen feet)

अदरक का सूखा पाउडर जलनरोधी होता है।  एक चुटकी अदरक का सूखा पाउडर, आधा चम्मच करेला एवं आधा चम्मच नींबू का रस लें एवं इन सबको मिश्रित करें।  रोज़ाना इस मिश्रण का सेवन खाने के बाद दिन में दो बार करें।

गुलाब की पंखुड़ियां (Rose petals for Swollen feet)

गुलाब की थोड़ी सी पंखुड़ियों को पीस लें एवं मिश्रण में पानी मिलाकर पतला बनाएं।  स्नान करने से पहले अपने पैरों के सूजन वाले क्षेत्र की गुलाब की पंखुड़ियों युक्त पानी से मालिश करें।  मालिश करने के एक घंटे बाद स्नान कर लें।  ऐसा करने से आपके पैरों को काफी आराम प्राप्त होगा।

हल्दी (Turmeric for Swollen feet)

पैरों की सूजन को दूर करने के लिए रोज़ाना गर्म दूध के साथ थोड़े से हल्दी पाउडर का सेवन करें। हल्दी का पाउडर चूने के पाउडर के साथ भी लिया जा सकता है।  दोनों को थोड़े से पानी के साथ मिश्रित किया जा सकता है। इस मिश्रण का प्रयोग अपने टखनों तथा पैरों पर करें एवं सूजन तथा दर्द से आराम प्राप्त करें

करेले का रस (Bitter gourd juice for Swollen feet)

दो चम्मच करेले एवं दो चम्मच करौंदे का रस लें।  इसमें थोड़ा सा एप्सम (epsom) नमक मिश्रित करें।  इस मिश्रण का सेवन रोजाना सुबह खाली पेट चर से पञ्च दिन तक करें।  सूजन कुछ ही दिनों में कम हो जाएगी।

Swollen feet

केले (Bananas for Swollen feet)

दिन में तीन से चार पके हुए केलों का सीन करने से पैरों की सूजन कम होगी एवं दर्द में भी कमी आएगी।

कैस्टर के पत्ते (Castor leaves for Swollen feet)

यदि पैरों की सूजन लम्बे समय तक रहती है तो कैस्टर के पौधे का एक पत्ता लें एवं इसपर थोड़ा सा गर्म सरसों का तेल लगाएं।  इसके बाद इस पत्ते को सूजन युक्त क्षेत्र में एक धागे की सहायता से बाँध लें। इससे सूजन में कमी आएगी एवं दर्द से भी छुटकारा मिलेगा।

टूटा हुआ अरहर (Split red gram for Swollen feet)

चर चम्मच टूटा अरहर लें एवं इसका लेप बनाएं।  अरहर के इस लेप का प्रयोग करके पोल्टिस (poultice) बनाएं एवं इसे बेहतर परिणामों के लिए सूजे हुए भाग पर लगाएं।

मेथी के पत्ते (Fenugreek leaves for Swollen feet)

थोड़े से मेथी के पत्ते लें एवं इसका लेप बनाएं। इस लेप के साथ थोड़ी सी काली मिर्च के पाउडर का मिश्रण करें।  इस मिश्रण से पोल्टिस का निर्माण करें एवं इसे सूजन युक्त भाग पर लगाएं।  इससे सूजन में काफी कमी आएगी।

Swollen feet

उबला आलू (Boiled potato for Swollen feet)

थोड़े से आलूओं को पानी में उबालें।  इसके बाद आलूओं को निकाल लें एवं इस पानी का प्रयोग सूजे हुए भाग पर करें।  ऐसा करने से दर्द में काफी कमी आएगी।

अदरक (Ginger for Swollen feet)

एक चम्मच अदरक का र्स लें एवं इसे 5 ग्राम पुराने गुड़ के साथ मिश्रित करें। इस मिश्रण का सेवन रोज़ करें। इससे पैरों की सूजन कुछ ही दिनों में कम हो जाएगी।

नमक का पानी (Salt water for Swollen feet)

थोड़ा सा नमक लेकर पानी के साथ उबालें।  इस पानी का प्रयोग बेहतर परिणामों के लिए पैरों के सूजे हुए क्षेत्र पर करें।

काली मिर्च का पाउडर (Black pepper powder for Swollen feet)

काली मिर्च के पाउडर को थोड़े से मक्खन के साथ मिश्रित करें।  इस मिश्रण का सेवन करके काफी प्रभावी परिणाम प्राप्त हो सकते हैं।