Pistachios (Pista) क्या आप जानते हैं पिस्ता के फायदे और उसके नुकसान

Pistachios (Pista) क्या आप जानते हैं पिस्ता के फायदे और उसके नुकसान

पिस्ता (Pistachios) सबसे पुराने सूखे मेवो में से एक हैं जिसे पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाता है। पिस्ता मुख्य रूप से पश्चिमी एशिया में पाए जाते थे। आधुनिक पुरातात्विक अनुसंधान से यह पता चला है कि मानव 6,000 बी.सी. से पिस्ता का उपयोग करते आ रहे हैं। सबसे पहले ईरान, इराक और सीरिया में इनकी खेती की गई थी। आज ईरान, इराक और सीरिया के अलावा, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, तुर्की और चीन जैसे कई देशों में पिस्ता उगाए जा रहे हैं। पिस्ता अनैकार्डैसि (Anacardaceae) परिवार का सदस्य है। पहली बार पिस्ता का पेड़ पर फल आने के लिए लगभग 10 से 12 साल का समय लगता है।

Pistachios

 

Pista पिस्ता पोषक तत्वों से परिपूर्ण एक फल है, परंतु इस फल के बाहरी आवरण (शैल) को निकालकर इसके अंदर के पीले रंग के बीज को खाया जाता है। पिस्ता (Pistachios) आज विभिन्न रूपों में उपलब्ध हैं जैसे कि मीठे या नमकीन। पिस्ता पर चढ़ा हुआ शैल इसको क्षति और विभिन्न संक्रमणों से बचाता है। 100 ग्राम पिस्ता में 562 कैलोरी, 45 ग्राम फैट, 20 ग्राम प्रोटीन और 28 ग्राम कार्बोहाइड्रेट होता है। पिस्ता एक ताकत देने वाला और पौष्टिक मेवा है।

पिस्ता के फायदे – Pista ke Fayde in Hindi

पिस्ता के फायदे बचाएँ कैंसर से – Pistachios Prevent Cancer in Hindi

Pista पिस्ता का सर्वोत्तम स्वास्थ्य लाभ इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट गुण हैं। पिस्ता पॉलीफेनोलिक यौगिक जैसे कैटेकिन और गैलिक एसिड से परिपूर्ण होते हैं। ये यौगिक आपके शरीर की रक्षा करते हुए शरीर में मुक्त कणों से लड़ते हैं। इसमें पाए जाने वाला विटामिन बी6 रक्त कणिकाओं की संख्या बढ़ाता है जिससे यह कैंसर से बचाने में आपको मदद करता है।

इसकी त्वचा और बीज में भी अलग एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। हालांकि, ज्यादातर लोग शैल को तोड़ने के बाद बाद त्वचा की पतली परत को हटा देते हैं।

पिस्ता का उपयोग है कोलेस्ट्रॉल के लिए लाभदायक – Pista Good for Cholesterol in Hindi

सभी सूखे मेवो की तरह, पिस्ता (Pistachios) आपके कोलेस्ट्रॉल के लिए लाभदायक होते हैं। इसकी वसा सामग्री में 60 प्रतिशत पॉलीअनसैचुरेटेड और मोनोअनसैचुरेटेड वसा होती है, जो एक स्वस्थ तरह का फैट होता है। ये फैटी एसिड एलडीएल (“खराब”) कोलेस्ट्रॉल को कम करके एचडीएल (“अच्छा”) कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाते हैं, जिससे हृदय रोग का खतरा कम हो जाएगा। यह मांसपेशियों की ताकत को बढ़ाकर हृदय को मजबूत बनाते हैं। पिस्ते फाइबर में भी परिपूर्ण होते हैं।

पिस्ता के लाभ करें उच्च रक्तचाप को कम – Pista ke Fayde for High Blood Pressure in Hindi

Pista पिस्ता के स्वास्थ्य लाभों में उच्च रक्तचाप भी शामिल है। उच्च रक्तचाप पर किए गये एक अध्ययन के अनुसार, इसकी कम खुराक सिस्टल रक्तचाप को कम करने के लिए काफी लाभदायक होती है। दूसरी तरफ, पिस्ता (Pistachios) रक्त वाहिकाओं को कसने में मदद करता है। जिससे हृदय पर कम दबाव पड़ता है।

Pistachios

पिस्ता का सेवन बचाएँ मोटापे से – Pistachios Reduces Weight in Hindi

यदि आप अपना वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं, तो पिस्ता खाना शुरू कर दें क्योंकि ये प्रोटीन और फाइबर से भरे हुए होते हैं जिससे आपको जल्दी भूख नहीं लगती है। यह बेहतर वजन प्रबंधन का एक उपाय है! पिस्ता का लाभ उठाने के लिए, भोजन के बीच में इनका नाश्ता करें। लेकिन लंच या डिनर के दौरान इनके अधिक सेवन से बचें।

पिस्ता के गुण हैं मधुमेह में लाभकारी – Pistachios Helps Diabetes in Hindi

यह स्वस्थ वसा, फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट्स और सूजन को कम करने वाले तत्वों के कारण मधुमेह के लिए लाभदायक होता है। इसका ग्लूकोज और इंसुलिन प्रतिरोध पर अनुकूल प्रभाव पड़ता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप इन्हे अकेले या भोजन के साथ खाते हैं। एक कप पिस्ता हमारे शरीर के लिए प्रतिदिन आवश्यक फॉस्फोरस की 60% ज़रूरत को पूरा करता है जो टाइप 2 डायबिटीज से हमारी रक्षा करती है।

पिस्ता खाने के फायदे करें आंखों की रक्षा – Pistachios Good for Eyes in Hindi

पिस्‍ता(Pistachios) आंखों के लिए भी बहुत फायदेमंद है और यह आंखों की बीमारियों से भी बचाता है। कैरोटीनॉयड आमतौर पर नारंगी फल और सब्जियों में पाया जाता है। लेकिन पिस्ता में भी यह पाया जाता है। पिस्ते में ल्यूटिन और जाक्‍सान्थिन नामक दो एंटी ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो मुक्त कणों पर हमला कर उन्हें ख़त्म करते हैं और कोशिकाओं को नष्ट होने से बचाते हैं। इस प्रकार ये उम्र से संबंधित मैक्युलर डिजेनॅरेशॅन (macular degeneration) से हमारी रक्षा करते हैं।

पिस्ता खाने के लाभ रोकें हड्डियों की बीमारियाँ – Pista Benefits for Bone Health in Hindi

पिस्‍ता (Pistachios) हड्डियों के लिए भी बहुत उपयोगी माना जाता है। इसमें कैल्शियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम उच्च सामग्री पाई जाती है। पिस्‍ता में कुछ विटामिन के भी होते हैं, जो हड्डियों के स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है। ये पोषक तत्व हड्डियों को मजबूत करते हैं और हड्डी से संबंधित बीमारियों को रोकते हैं।

Pistachios

त्वचा के लिए पिस्ता है ज़रूरी – Pistachios Benefits for Skin in Hindi

इसमें उपस्थित तेल आपकी त्वचा को माइश्‍चरॉइज करता है जिससे ये त्वचा से ड्राइनेस्स को दूर करने में मदद करते हैं। त्वचा को दमकाने के लिए पिस्‍ते का सेवन करना चाहिए। स्वस्थ त्वचा के लिए विटामिन ई बहुत ही ज़रूरी होता है और पिस्ता में यह बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है। यह त्वचा की बढ़ती हुई उम्र को रोकता है।

पिस्ता के औषधीय गुण करें एनीमिया का इलाज – Pistachios Good for Anemia in Hindi

Pista पिस्ता में तांबे की उच्च सामग्री होती है, जो भोजन स्रोतों से शरीर में लोहे के उच्च अवशोषण में मदद करती है। यह एनीमिया जैसी स्थिति में मदद करता है। पिस्‍ता में विटामिन बी-6 होता है जो खून में ऑक्सीजन को भेजता है। यदि प्रतिदिन इसे खाया जाए तो रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ जाती है और हीमोग्लोबिन भी बढ़ता है।

पिस्ता के नुकसान – Pista ke Nuksan in Hindi

यदि आपको नट्स से एलर्जी हैं, तो आपको पिस्ता (Pistachios) नहीं खाना चाहिए। इससे खाँसी, छींक, चकत्ते और चेहरे की सूजन जैसे लक्षण पैदा कर सकते हैं। यह तेजी से एनाफिलेक्सिस नामक एक अधिक गंभीर एलर्जी में बदल सकते हैं।

पिस्ता में मौजूद आहार फाइबर हमारे पेट के लिए अच्छा है और हमारी पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने में मदद करता है, लेकिन बहुत अधिक मात्रा में आहार फाइबर हमारे पेट के लिए खराब होता है और दस्त, पेट में दर्द और ऐंठन, चिड़चिड़ा आंत्र सिंड्रोम आदि का कारण बन सकता है।

पिस्ता नट्स से कुछ लोगों में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल साइड इफेक्ट होते हैं। जो फ्रक्टोज़ नामक एक यौगिक की वजह से प्रतिक्रिया होती है। फ्रक्टोज़ खतरनाक नहीं है, लेकिन वे पाचन तंत्र को परेशान कर सकते हैं, जिससे सूजन, दस्त, कब्ज, पेट फूलना और पेट में दर्द हो सकता है।

नमकीन और मीठे पिस्ते (Pistachios) के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि उनमें उच्च सोडियम और चीनी सामग्री होती है।

सलाद से दही तक, आप कई तरह से पिस्ता(Pistachios) का आनंद ले सकते हैं। हालांकि, आपको हमेशा अनसाल्टेड पिस्ता का विकल्प चुनना चाहिए। यह दूध, तेल और मक्खन के रूप में भी उपलब्ध होते हैं।