Foot Pain – पैरों में दर्द के कारण और घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

Foot Pain – पैरों में दर्द के कारण और घरेलू आयुर्वेदिक उपचार

पैर में दर्द (Foot Pain) होना, पैरों के किसी भी भाग जैसे मांसपेशियों, हड्डियों, स्नायु, नस, खून की धमनियों, पैरों के नाखूनों तथा त्वचा आदि में हो रही तकलीफ से भी हो सकता है।

पैरों के दर्द (Foot Pain) के कई कारण होते हैं जैसे अंदरुनी रूप से पैर के नाखून का बढ़ना, फंगल संक्रमण आदि।इन सबमें आपको डॉक्टरी सहायता की आवश्यकता होती है। लेकिन कई बार आपके पैरों के आकार के जूते ना होने पर भी आपका उसमें पैर डालना, थकान या बुढ़ापे की वजह से भी पैरों की समस्या होती है

Foot Pain पैरों के दर्द के कारण चाहे कुछ भी हों लेकिन ऐसी समस्याओं से निजात पाने के लिए आपको ज़्यादा समय या ऊर्जा खर्च नहीं करनी पड़ती। सिर्फ एक अच्छे फुट मसाज या मैनीक्योर या गर्म पानी की बाल्टी में पैर डाले रखने से भी आराम मिलता है।

Foot Pain

पैरों में दर्द (Foot Pain) के इलाज के लिए दर्दनिवारक दवाएं और जेल आदि भी मौजूद हैं, लेकिन अधिकांश दर्दनिवारक दवाएं कुछ बुरे परिणामों के साथ असर करती है और इससे शरीर में एसिड लेवल बढ़ जाता है और इस वजह से अन्य परेशानियाँ सामने आने लगती हैं, अच्छा है कि पैर दर्द के इलाज के लिए घरेलु उपायों पर जोर दिया जाये और गंभीर स्थिति में न होने पर प्राकृतिक तरीकों की ही मदद ली जाये.

कई बार ऐसा लगता है कि हम अपने पैरों की देखभाल खुद से कर सकते हैं, वहीँ कई बार हम कुछ ज़्यादा ही थके हुए होते हैं और हमारी मदद करने वाला भी कोई नहीं होता। पैर में दर्द होना, फ़िक्र ना करें। आपके पैरों का उपचार करने के कुछ बेहतरीन नुस्खे नीचे दिए गए हैं।

नमक से पैर दर्द का इलाज हिंदी में (Reduce Foot Pain – Salt for heel pain in Hindi)

एड़ियों में दर्द के लिए नमक का प्रयोग बहुत आर्म प्रदान करने वाला होता है. इसके लिए सूखे नमक को कसी सूती कपड़े में बांधकर पोटली बना लें. एक गर्म तवे में इस नमक की पोटली को गर्म कर दर्द वाली जगह पर सेंक लेते हुए रखें, पोटली को उतना ही गर्म करें जितनी गर्माहट आपकी त्वचा सहम कर पाए.

पैर दर्द के कारण – पैरों को गर्म पानी में डुबोएं (Foot Pain – Soaking your feet in hot water)

यह पैरों के लिए एक काफी बेहतरीन उपचार साबित होता है।

  • एक पात्र में हल्का ठंडा पानी लें तथा इसमें करीब 15 मिनट तक अपने पैर डुबोकर रखें।
  • एक बार यह प्रक्रिया पूरी हो जाने पर गर्म पानी से भरा एक पात्र लें, जिसका पानी इतनी ही मात्रा में गर्म होना चाहिए कि इससे आपके पैरों को आराम मिल सके। अब इस गर्म पानी से भरे पात्र में भी करीब 15 मिनट तक अपने पैर डुबोकर रखें।
  • अगर संभव हो सके तो इस पानी में थोड़ा सा नमक मिश्रित कर लें, क्योंकि इससे पैरों के अनचाहे बैक्टीरिया (bacteria) को ख़त्म करने में काफी मदद मिलती है। इस नुस्खे का पालन करने से आपके पैरों में किसी प्रकार का कोई संक्रमण भी नहीं होगा।
  • अगर आपसे संभव हो सके तो पुदीने के तेल, रोजमेरी (rosemary) के तेल, यूकेलिप्टस (eucalyptus) के तेल और सुगंध प्राप्त करने के लिए लैवेंडर (lavender)  तेल जैसे एसेंशियल ऑयल्स (essential oils) का प्रयोग करें।
  • पैरों के दर्द (Foot Pain) का इलाज, इन सारे तेलों की कुछ बूँदें गर्म पानी में मिश्रित करें तथा तथा करीब 15 से 20 मिनट तक इस पानी में अपने पैरों को डुबोकर रखें।
  • Foot Pain पैरों के दर्द का इलाज, इस नुस्खे का पालन करने से आपके पैरों में रक्त का संचार काफी अच्छे से होता है। ऐसा होने से आपको आपके पैर के दर्द से भी काफी हद तक राहत प्राप्त हो जाती है।

Foot Pain

पैरों की मसाज (Foot Pain – Foot Massage for sprained ankle for pair me dard)

यह शब्द सुनने से ही काफी राहत मिल जाती है। जैसा कि ऊपर बताया गया है कि ऐसा भी हो सकता है कि थकान की वजह से आप खुद के पैरों की मालिश करने में असमर्थ हों। ऐसी स्थिति में मसाज रोलर (massage roller), या अन्य प्रकार की मालिश करने वाले यंत्रों का प्रयोग करना काफी सही रहेगा।

अगर आप मसाज के इन यंत्रों का प्रयोग नहीं करना चाहते हैं तो आप टेनिस बॉल, रोलिंग पिंस या गोल्फ बॉल (tennis ball, rolling pins or golf ball) आदि का भी प्रयोग कर सकते हैं। इन छोटे बॉल्स को अपनी टांगों के नीचे रखें और बॉल के ऊपर अपनी टांगों को घुमाएं। इससे आपके पैरों को काफी ज़्यादा आराम प्राप्त होगा। इस तरह के आराम का और भी ज़्यादा अनुभव करने के लिए आप नीचे दिए गए नुस्खे भी अपना सकते हैं,पैर दर्द के उपाय : –

पैर दर्द का घरेलू उपचार – पहला नुस्खा (Foot Pain – Tip 1 for pairo ka dard)

  • एक पात्र में एक चम्मच कैमोमाइल तेल, लैवेंडर तेल तथा जेरेनियम का तेल (chamomile oil, lavender oil, geranium oil) लें।
  • पैर दर्द (Foot Pain) का घरेलू उपचार, इस मिश्रण में 2 चम्मच जैतून का तेल (olive oil) भी डालें तथा इसे अच्छे से मिलाएं।
  • इस मिश्रण का प्रयोग अपने पैरों पर करें और इसकी मदद से गोलाकार मुद्रा में मालिश करें।

पैर दर्द का देसी ईलाज – दूसरा नुस्खा (Foot Pain – pairon mein dard ka ilaj)

  • अगर आपको पैरों में ऐंठन की शिकायत हो तो एक पात्र में लौंग के तेल की कुछ बूँदें लें तथा इसमें करीब 2 चम्मच तिल का तेल डालें।
  • पैर दर्द का ईलाज, इन्हें अच्छे से मिश्रित करें तथा इस मिश्रण से अपने पैरों की मालिश करें, खासकर उस भाग पर जहां खुजली हो रही हो।

पैर दर्द का उपचार – पैरों का व्यायाम (Foot Pain – Foot workout for pairon mein dard)

आपके शरीर के बाकी हिस्सों की तरह ही आपकी टांगों को भी व्यायाम की आवश्यकता होती है। इंटरनेट (internet) पर मौजूद कुछ वीडियो (video) देखें या पैरों के व्यायाम को लेकर अपने डॉक्टर से सलाह करें। इन व्यायामों को निरंतर जारी रखकर स्थायी रूप से  पैरों के दर्द को दूर करें।

इसके अलावा भी आप कुछ नुस्खों का पालन कर सकते हैं  (pairon mein dard ka ilaj): –

  1. पैर दर्द (Foot Pain) का उपचार, जूतों के इन्सर्ट्स (inserts) खरीदें जो कि आपको आसानी से किसी भी दवाई की दुकान पर प्राप्त हो जाएँगे। जूतों के ये इन्सर्ट्स उन लोगों के लिए काफी प्रभावी साबित होते हैं, जो पैरों में दर्द या समतल एड़ियों की समस्या से परेशान हैं।
  2. पैरों के व्यायाम के अलावा ऐसे कुछ व्यायामों के बारे में भी पता करें जो एड़ियों को आराम पहुंचाने वाली हों, तथा इन्हें रोजाना करें। ये नुस्खा खासतौर पर उनके लिए है, जो निरंतर रूप से ऊँची एड़ियों वाले जूते पहनना पसंद करते हैं।
  3. पैर दर्द (Foot Pain) का उपचार, रोजाना साफ़ मोज़े पहनें तथा
  4. पैर दर्द (Foot Pain) का उपचार, रोजाना अपने पैर अच्छे से धोएं।
  5. एंटीबैक्टीरियल (antibacterial) उत्पादों से अपने पैरों को धोएं।

Foot Pain

पैर दर्द का कारण – पैरों में दर्द के कारण (Causes of Foot Pain)

पैरों की असामान्यता (Abnormal foot anatomy) – सामान्य असामान्यताएं जैसे समतल पंजे,जोड़ों में परेशानी आदि की वजह से भी पैरों का दर्द (Foot Pain) हो सकता है।

पैर दर्द का कारण – गर्भावस्था (Pregnancy) – गर्भावस्था के दौरान वज़न के ज़्यादा बढ़ जाने से तथा हॉर्मोन्स में असंतुलन की वजह से पैरों के स्नायुओं में अत्याधिक दबाव पड़ता है और उनमें दर्द होता है।

पैर दर्द का कारण – मोटापा (Obesity) – शरीर का सारा भार पैरों पर होता है। मोटापे से पैरों के जोड़ों,स्नायुओं और मांसपेशियों पर ज़्यादा दबाव पड़ता है।

बिना माप के जूते (Poor-fitting shoes) – वो जूते जो आपके पैरों में फिट नहीं बैठते आपके पैरों में दर्द के कारक बन सकते हैं। अगर जूते आपके पैरों में ढीले हो रहे हैं तो इससे जूते के अंदर आपके पैरों की बेवजह हरकतें होंगी जिसकी वजह से उनमें थकान की समस्या आ जाती है।

पैरों का ज़्यादा इस्तेमाल (Pair dard ka ilaj – Overuse) – काफी लम्बे समय तक चलने या खड़े रहने की वजह से तथा अन्य कई कारणों से स्वस्थ पैरों में जलन और दर्द की समस्या आ जाती है। इसके अलावा कठोर सतह जैसे कंक्रीट पर चलने या खड़े रहने से पैरों पर अनावश्यक दबाव पड़ता है।

कुछ स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं तथा बीमारियों से भी पैरों में दर्द (Foot Pain) होता है। ये बीमारियां हैं मधुमेह,जोड़ों का दर्द तथा ह्रदय सम्बन्धी बीमारियां।

Foot Pain

पैरों की आम समस्याएं और उनके उपचार (Common Foot Pain problems and tips to get relief)

पैर की एड़ी में दर्द – एड़ियों में दर्द (Foot Pain – Heel pain) – ये दर्द प्लांटर फैसीआइटिस की वजह से होता है। प्लांटर फाशिया एक तंतु होता है जो एड़ियों की हड्डियों को पैर के अंगूठे से जोड़ता है और इस स्थिति में इसमें काफी जलन तथा सूजन भी आ जाती है। पैर की एड़ी में दर्द, प्लांटर फैसीआइटिस की सबसे सामान्य समस्याएं एड़ियों और उसके आसपास का दर्द होता है।

प्लांटर फैसीआइटिस के इलाज में शामिल है आराम करना,एड़ियों और पैरों का व्यायाम तथा अपने माप के जूते पहनना।

पैर के दर्द का इलाज – हील स्पर (Foot Pain – Heel spurs for pairon mein dard ka ilaj) – ये हड्डियों की असामान्य बढ़त को कहते हैं जो एड़ियों की हड्डी के निचले सिरे से शुरू होते हैं। इनके मुख्य कारण होते हैं गलत मुद्रा में खड़े रहना या चलना, सही माप के जूते ना पहनना तथा कुछ शारीरिक गतिविधियाँ जैसे दौड़ना। इस समस्या से चलने या दौड़ने के समय पैरों में दर्द होता है। समतल पंजों वाले लोगों को हील स्पर की संभावना ज़्यादा होती है।

पैरों के तलवों में दर्द – एड़ियों की गोलाई में दर्द (Ball of Foot Pain) – पैरों में दबाव डालने वाली गतिविधियाँ जैसे दौड़ना या कूदना या गलत माप के जूते पहनना आमतौर पर एड़ियों की गोलाई के दर्द के कारण होते हैं। इसे स्टोन ब्रूज़ कहते हैं जो कि पैरों की गोलाई में लगे घाव को कहते हैं। पैरों के तलवों में दर्द, यह किसी चोट की वजह से होता है पर किसी कठोर चीज़ पर पैर रखने की वजह से भी हो सकता है। इस दर्द को बर्फ द्वारा और पैरों को आराम देकर दूर किया जा सकता है। पैरों के तलवों में दर्द, पैरों के जूते बदलने और जूतों में इन्सर्ट डालने से भी पैरों की गोलाई के दर्द में आराम मिलता है।