कुट्टू की खिचड़ी बनाने की विधि – How To Make Kutu Khichdi

kuttu ki khichdi recipe in hindi

उपवास के समय हम सभी कुट्टू के आटे से बनी पूडी या हलवा खाते हैं। कुट्टू बहुत ही ज्यादा पौष्टिक और तुरंत उर्जा देने वाला आहार है। इसलिये आप कुट्टू की खिचडी भी बना सकती हैं।

व्रत-उपवास में जो चीज़ें खायी जाती हैं। उनमें कुट्टू का आटा भी शामिल है। इससे अलग-अलग तरह की डिशेज़ बनायी जाती हैं जो लोग व्रत के दौरान खाते हैं।

कुटटू के पोषक तत्व – Kuttu ke fayde

कुटटू में उच्च गुणवत्ता के प्रोटीन होते हैं जो गेहूं या चावल में नहीं होते। यह विटामिन बी कॉम्लेक्स तथा फाइबर से भरपूर होता है।

इसके अलावा कुटटू में फास्फोरस , मैग्नीशियम , पोटेशियम , जिंक और मैगनीज जैसे लाभदायक खनिज होते है। इसमें ग्लूटेन नहीं होता अतः ग्लूटेन से एलर्जी वाले लोग इसका उपयोग कर सकते हैं।

कुट्टू दरअसल इसी नाम के एक पौधे का बीज होता है जिसे पीसकर कुट्टू का आटा बनाया जाता है। कुट्टू काफी हेल्दी होता है और आज हम आपको बता रहे हैं कुट्टू का आटा खाने के विभिन्न फायदे-

  1. ग्लूटेन-फ्री- ग्लूटेन सेंसिटिविटी से परेशान लोगों के लिए कुट्टू एक बेहतरीन खाद्य पदार्थ है। यह ग्लूटेन-फ्री होता है और इसमें भरपूर मात्रा में फाइटोकेमिकल्स होते हैं, जिस वजह से यह आपको विभिन्न रोगों से दूर रखता है।
  2. वजन घटाने वालों के लिए अच्छा- उच्च मात्रा में फाइबर और कम मात्रा में वसा होने के चलते ये वजन घटाने वालों के लिए बेहतर विकल्प है। फाइबर आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगने देते हैं, जिससे आप कुछ भी उल्टा-सीधा खाने से बच जाते हैं।
  3. ब्लड प्रेशर कम करता है- इसमें उच्च मात्रा में रूटिन (rutin) होता है। इससे बॉडी में गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने और ब्लड फ्लो रेगुलेट करने में मदद मिलती है, जिससे आपका ब्लड प्रेशर सही बना रहता है।
  4. सेक्स लाइफ के लिए अच्छा- इसमें मौजूद अर्गिनाइन  ब्लड में सक्रिय टेस्टोस्टेरोन बनाने में प्रभावी हैं। ये ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल कम करने व ब्लड वेसल्स को रिलेक्स करने में सहायक है, जिससे आपकी उत्तेजना बढ़ती है।
  5. कई बीमारियों से बचाने में सहायक- इसका एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल और एंटीमाइक्रोबिअल प्रभाव पड़ता है। इसके रोजाना सेवन से आप कोल्ड, फ्लू अन्य रोगों से दूर रह सकते हैं। इसमें मौजूद अर्गिनाइन और लाइसिन से हार्मोन को बढ़ावा मिलता है तेजी से चंगा होने में मदद मिलती है।
  6. दिमाग के लिए अच्छा- इसमें मौजूद ट्रिप्टोफेन (tryptophan) से व्यक्ति के मूड को पॉजिटिव बनाने में मदद मिलती है। इसमें मौजूद सही पोषक तत्वों के कारण याददाश्त बढ़ाने में भी मदद मिलती है।

कितनेः 2 लोगों के लिये

तैयारी में समयः 15 मिनट

आवश्यक सामग्री – Ingredients

1 कप साबुत कुट्टू

2 आलू टुकड़ों में कटे हुए

1 हरी मिर्च बारीक कटी हुई

1 छोटा चम्मच कद्दूकस किया हुआ अदरक

आधा छोटा चम्मच साबुत जीरा

1 छोटा चम्मच चीनी

2 बड़ा चम्मच मूंगफली

1 बड़ा चम्मच घी

सैंधा नमक स्वादानुसार

तेल तलने के लिए

सजावट के लिए – For Garnish

1 छोटा चम्मच नींबू का रस

1 बड़ा चम्मच बारीक कटी हुई धनिया पत्ती

विधि – Recipe

सबसे पहले धीमी आंच में एक पैन में मूंगफली को भून लें और आंच बंद कर दें.

जब मूंगफली ठंडी हो जाए तब इसे मिक्सर में दरदरा पीस लें.

अब कुट्टू को भी कई बार धोकर साफ कर लें और इसे अलग रख दें. 

धीमी आंच में एक पैन में तेल गर्म करने के लिए रखें. तेल के गर्म होते ही इसमें जीरा डालें.

 जैसे ही जीरा चटकने लगे तब इसमें हरी मिर्च और अदरक डालकर भून लें.

अब आलू के टुकड़ों को डालकर कड़छी से चलाते हुए 2 से 3 मिनट तक फ्राई करें.

आलू के सुनहरा होते ही मूंगफली पाउडर, कुट्टू, नमक और चीनी डालें और ढककर 1 से 2 मिनट तक पकाएं.

 तय समय के बाद आंच बंद कर दें. कुट्टू की खिचड़ी तैयार है. इसपर नींबू का रस निचोडे़ और धनिया पत्ती से गार्निश कर गर्मागर्म सर्व करें.

kuttu ki khichdi recipe in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *