आइए, जानते हैं गुलकंद क्या है, और गुलकंद फायदे, नुकसान

आइए, जानते हैं गुलकंद क्या है, और गुलकंद फायदे, नुकसान

गुलाब की पंखुड़ियों से बना गुलकंद एक प्रकार का मुरब्बा होता है, गुलकंद का नाम सुनते ही आपके दिमाग में किसी खुशबूदार और मीठे खाद्य पदार्थ का चित्र उभरने लगता है. गुलाब की पंखुड़ियों से बनने वाला गुलकंद स्‍वादिष्‍ट होने के साथ सेहत के लिए भी अच्‍छा होता है.

उतनी ही प्यारी इसकी खुशबू होती है. गुलकंद एक मुरब्बे की तरह दिखता है. इसका प्रयोग खाने में कई प्रकार से किया जाता है. गुलकंद हमारे शरीर के लिए भी बहुत फायदेमंद है. ये आपके शरीर को ठंडा बनाए रखने में भी मदद करता है.

गर्मियों में इसके सेवन से लू से राहत मिलती है. गुलाब की पंखुड़ियों से बनने वाला गुलकंद कई औषधिय गुणों से भी भरपूर होता है. इसीलिए विभिन्न दवाइयों के बेहतर असर के लिए इसे खाने की सलाह दी जाती है.

गुलकंद में विटामिन सी, ई और बी भरपूर मात्रा में पाया जाता है. इसके सेवन से शरीर ठंडा रहता है और गर्मी के कारण होने वाली परेशानियों से बचा जा सकता है. इस लेख में हम आपको गुलकंद से होने वाले फायदे और गुलकंद के नुकसान के बारे में जानकारी दे रहे हैं. जानिए शरीर की विभिन्न परेशानियों के लिए गुलकंद किस प्रकार लाभ पहुंचा सकता है.

आइए, अब सबसे पहले जानते हैं कि गुलकंद क्या है

  • गुलकंद क्या है
  • गुलकंद के फायदे 
  • गुलकंद खाने का तरीका
  • गुलकंद बनाने की विधि
  • गुलकंद के नुकसान 

गुलकंद क्या है – गुलकंद को गुलाब से बनी पंखुड़ियों का मुरब्बा भी कहा जाता है. इसे गुलाब के फूल की ताजी पंखुड़ियों से तैयार करते हैं. इसको बनाते समय स्वाद के लिए इसमें चीनी का इस्तेमाल भी किया जाता है. इसका सेवन ज्यादातर गर्मियों में करते हैं, जिससे शरीर को ठंडक पहुंचाई जा सके. इसके मीठे स्वाद और अच्छी सुगंध की वजह से इसे कई स्वादिष्ट खाद्य पदार्थों में भी इस्तेमाल किया जाता है.

गुलकंद के फायदे – गुलकंद में पोषक तत्व विटामिन्स ए, सी, और बी पाया जाता है. इसमें बहुत मात्रा में एन्टीऑक्सीडेंटस पाया जाता है. जो शरारी की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर थकान को कम करता है. यह एक अच्छा एन्टीबैक्टिरीयल का स्त्रोत है 

1. गुलकंद शरीर के अंगों को ठंडक प्रदान करता है. शरीर में गर्मी बढ़ जाने पर गुलकंद का सेवन बेहद लाभदायक होता है और गर्मी से पैदा हुई समस्याओं से निजात दिलाता है.

2. गुलकंद का नियमित सेवन दिमाग के लिए भी बेहद लाभकारी है. बस एक चम्मच गुलकंद सुबह और शाम के वक्त खाने से न केवल आपके दिमाग को तरावट मिलेगी, दिमाग शांत भी रहेगा और गुस्सा भी नहीं आएगा.

3. कब्ज या अपच की समस्या होने पर यह रामबाण उपाय है. रोजाना गुलकंद का सेवन कब्ज से निजात दिलाएगा और भूख बढ़ाने के साथ ही पाचन तंत्र को भी सुचारू करने में सहायक होगा. गर्भावस्था में यह विशेष लाभकारी और सुरक्षित है.

4. आंखों की रोशनी बढ़ाने और ठंडक प्रदान करने के लिए गुलकंद का उपयोग करना बेहतर तरीका है. यह आंखों में जलन एवं कंजक्ट‍िवाइटिस की समस्या से भी आपको निजात दिलाएगा.

5. मुंह के छालों एवं त्वचा समस्याओं के लिए भी गुलकंद का प्रयोग बेहद फायदेमंद है. वहीं थकान और ऊर्जा में कमी होने पर भी गुलकंद लाभदायक साबित होगा.

गुलकंद बनाने की विधि – आप गुलकंद को बड़ी आसानी से घर में बना सकते हैं. इसके लिए नीचे बताई जा रही विधि को ध्यान से पढ़िए.

सामग्री :

  • 250 ग्राम गुलाब की पंखुड़ियां
  • पिसी हुई मिश्री लगभग 250 ग्राम
  • एक छोटा चम्मच पीसी हुई इलायची
  • आधा चम्मच पीसी हुई सौंफ

बनाने की विधि :

सबसे पहले गुलाब की पंखुड़ियों को एक कपड़े पर फैला कर अच्छी तरह धो लें. पानी सूख जाने पर पंखुड़ियों को चौडें आकार वाले बर्तन में रखें. अब इस बर्तन में रखी गई गुलाब की पंखुड़ियों पर मिश्री डालकर हाथों से अच्छी तरह स्मैश कर लें.

अब इसमें ऊपर से पीसी हुई इलाइची और पीसी हुई सौंफ मिलाकर कांच के एक बर्तन में बंद कर दें. इसे आठ से दस दिनों तक धूप में रखें और बीच-बीच में इसे हिलाते रहें. मिश्री से रस निकल जाने के बाद, गुलाब की पंखुड़ियां इसमें पिघल जाएंगी.

अब आपका गुलकंद लगभग तैयार हो चुका है. इसे आप खाने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं. गुलकंद के जितने फायदे हैं, तो वहीं उसके कुछ संभावित नुकसान भी हैं, जिसके बारे में आपको नीचे बता रहे हैं.

गुलकंद खाने का तरीका

  • गुलकंद को निम्न प्रकार से खाने में इस्तेमाल किया जा सकता है.
  • गुलकंद को ब्रेड के साथ खाने में इस्तेमाल किया जाता है.
  • गुलकंद को दूध के साथ उबालकर पीने में इस्तेमाल किया जा सकता है.
  • गुलकंद को सीधे तौर पर भी खाया जा सकता है.
  • गर्मियों में गुलकंद को पानी के साथ इस्तेमाल किया जा सकता है.
  • गुलकंद को लड्डू के रूप में भी खाया जा सकता है.

कब खाएं – इसे सुबह और शाम के नाश्ते में खाया जा सकता है. अगर आप कब्ज की समस्या से पीड़ित हैं, तो रात को सोने से पहले इसका सेवन कर सकते हैं.

कितना खाएं – दिनभर में एक से दो बार, 1-2 चम्मच गुलकंद को खाया जा सकता है.

गुलकंद के नुकसान 

  • वैसे तो  गुलकंद (Gulkand) खाने के बहुत से फायदे हैं लेकिन इसको ज्यादा मात्रा में खाने से आपको नुकसान भी हो सकते हैं.
  • गुलकंद (Gulkand) का तासीर में ठंडा होता है इसीलिए आपको जुखाम भी हो सकता हैं.
  • इसका Use ज्यादा मात्रा में करने से खांसी की Problem हो सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *