Black Pepper Benefits काली मिर्च के जबरदस्त फायदे और नुकसान

Black Pepper Benefits काली मिर्च के जबरदस्त फायदे और नुकसान

हर भारतीय व्‍यंजन में स्वाद लाने के लिए काली मिर्च (Black Pepper Benefits) को उपयोग जाता है। अपने हर दिन के भोजन में एक चम्‍मच काली मिर्च को ज़रूर उपयोग करें। वजन को कम समय में घटाने के लिए आप भोजन में काली मिर्च के पाउडर को छिड़क कर खा सकती है, इससे आपको नुकसान भी नहीं होगा और वजन भी कम हो जाएगा।

अगर आप अपनी त्‍वचा से सभी विषैले तत्‍वों को निकाल देना चाहते है तो अपनी त्‍वचा को इससे स्‍क्रब कर सकते है। इसमें अच्‍छी मात्रा में एक्‍सोफोलाइंट होता है। इसलिए अगली बार से काली मिर्च को भोजन में शामिल करें और शरीर को स्‍वस्‍थ बनाएं रखे।

Black Pepper Benefits

काली मिर्च के फायदे – Kali Mirch ke Fayde in Hindi

काली मिर्च के गुण दें पोषण को बढ़ावा – Black Pepper Benefits for Nutrition Absorption in Hindi

Black Pepper Benefits काली मिर्च में निहित पिपेरीने नामक एक यौगिक विटामिन ए और विटामिन सी, सेलेनियम, बीटा कैरोटीन जैसे और अन्य विभिन्न पोषक तत्वों की जैव-उपलब्धता को बढ़ाता है, जिससे आपके समग्र स्वास्थ्य में सुधार आता है। जैव-उपलब्धता आपके शरीर द्वारा अवशोषित पोषक तत्व या पूरक की मात्रा को संदर्भित करता है। कर्क्यूमिन (हल्दी में पाया जाने वाला एक यौगिक) कैंसर, संक्रमण और सूजन से लड़ने में मदद करता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, पिपेरीने यौगिक कुकुर्मिन की जैव-उपलब्धता को बीस गुना तक बढ़ा देती है।

इसके अलावा, पिपेरीने आंत्र में अमीनो एसिड ट्रांसपोर्टर को उत्तेजित करता है। यह कोशिकाओं से पदार्थों को हटाने से रोकता है और आंत्र गतिविधि को कम कर देता है जिससे अधिक पदार्थ सक्रिय रूप में शरीर में प्रवेश करते हैं और उपयोग के लिए उपलब्ध रहते हैं।

काली मिर्च के फायदे बढ़ाएँ पाचन शक्ति – Black Pepper Benefits for Digestion in Hindi

काली मिर्च (Black Pepper Benefits) स्वाद की कलिका (टेस्ट बड्स) को उत्तेजित करता है और पेट में हाइड्रोक्लोरिक एसिड के स्राव को बढ़ाता है, जिसका प्रतिफल बेहतर और स्वस्थ पाचन है। अधिकतम लोगों को यह लगता है कि हाइड्रोक्लोरिक एसिड के ज्यादा होने से पाचन समस्याएं उत्पन्न हो सकती है परंतु दिलचस्प बात तो यह है कि ज्यादातर पाचन समस्याएं हाइड्रोक्लोरिक एसिड की कमी के कारण होती हैं न की उसकी बढ़ोतरी की वजह से।

पाचन में सुधार करके काली मिर्च उदर-संबंधी सूजन, अपच, उदर-स्फीति (पेट फूलना), पेट में गैस और कब्ज जैसी समस्याओं से मुक्ति दिलाता है।

इसमें जीवाणुरोधी गुण भी होते हैं जो बैक्टीरिया प्रेरित आंत्र रोगों का इलाज करने में सहायक हैं।

काली मिर्च के लाभ करें भूख को उत्तेजित – Black Pepper Benefits Increases Appetite in Hindi

आपके भोजन को स्वाद से भरपूर करने के साथ-साथ पाचन को बढ़ावा देने वाली काली मिर्च एक भूख उत्तेजक के रूप में काम करती है। अनुसंधानों से यह पता चलता है कि काली मिर्च ने घ्राण अथवा गंध संबंधी उत्तेजना के माध्यम से भूख को बेहतर बनाने में मदद करता है। अतः कम भूख लगने वाले लोगों के लिए काली मिर्च उनकी इस समस्या से निपटने के लिए एक बहुत ही उत्कृष्ट और सरल उपाय है।

अपनी क्षुधा में सुधार लाने के लिए निम्नलिखित आयुर्वेदिक उपाय का अनुसरण करें :-

आधा चम्मच काली मिर्च और गुड़ पाउडर के एक चम्मच की मदद से एक मिश्रण तैयार कर लें। जब तक आपको अपने में सुधार न दिखें, तब तक इस मिश्रण का सेवन नियमित आधार पर करें।

Black Pepper Benefits

काली मिर्च के उपाय करें वजन कम करने के लिए – Black Pepper Helps in Weight Loss in Hindi

हालांकि यह बात सत्य है कि काली मिर्च(Black Pepper Benefits) भूख को उत्तेजित करती है, परंतु फिर भी यह आपको वजन कम करने में मदद कर सकती है। काली मिर्च की बाहरी परत में फयटोनुट्रिएंट्स होते हैं जो वसा कोशिकाओं के भंजन को प्रोत्साहित करते हैं। चूहों के चयापचय पर पपीरिन के प्रभावों के 2010 के एक अध्ययन से पता चला है कि यह शरीर में वसा संचय को रोकता है। इसके अलावा, काली मिर्च आपके चयापचय में सुधार करके कैलोरीज के शमन में मदद कर सकती है।

इसके अलावा, काली मिर्च एक वसा रहित आहार भी है। एक मूत्रवर्धक और डाइफोरेक्टिक जड़ी बूटी होने के कारण, यह पेशाब और पसीना को बढ़ावा देता है, जो बदले में शरीर से विषाक्त पदार्थों और अधिक पानी को फ्लश आउट करने में सहायता करता है।

काली मिर्च का प्रयोग करे गैस की समस्या का समाधान – Black Pepper Benefits Prevents Gas in Hindi

एक कार्मिनेटिव होने के नाते, काली मिर्च पेट को गैस से मुक्ति तो दिलाता ही है, परंतु साथ ही में यह गैस के गठन (निर्माण) को रोकने में भी मदद करता है।

काली मिर्च के कार्मिनेटिवे औषधीय गुण का लाभ उठाने के लिए निम्नलिखित में से एक उपाय का पालन करें –

  • यदि आपका पेट प्रायः गैस का शिकार बनता रहता है तो मिर्च पाउडर या मिर्च के बजाय काली मिर्च की मदद से अपने भोजन को लजीज व मसालेदार बनाये। यह गैस के गठन को रोकने का सबसे सरल उपाय है।
  • अपच और पेट में भारीपन का इलाज करने के लिए, काली मिर्च और जीरा पाउडर प्रत्येक का एक तिहाई चम्मच एक गिलास छाछ में मिलाकर पियें।
  • आप गैस के दर्द को दूर करने के लिए कैरियर तेल (एक आधार तेल) में मिश्रित काली मिर्च के तेल के साथ अपने पेट की मालिश कर सकते हैं।

काली मिर्च पाउडर दिलाएं सर्दी से राहत – Kali Mirch Powder Benefits for Cold and Cough in Hindi

क्योंकि काली मिर्च(Black Pepper Benefits) कफ को शिथिल करने में सहायक है, काली मिर्च का उपयोग भरी हुई नाक और कंजेशन को साफ करने के लिए किया जा सकता है। काली मिर्च में उच्चतम गुण वाले रोगाणुरोधी गुण भी सम्मलित हैं और यही वजह है कि काली मिर्च विभिन्न खांसी और सर्दी के उपचारों में व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाता है।

काली मिर्च का उपयोग करे गठिया दर्द को काबू – Black Pepper Oil for Arthritis in Hindi

Black Pepper Benefits काली मिर्च में मौजूद पपीरिन अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-गठिया गुणों के कारण, गठिया के इलाज के लिए बेहद फायदेमंद है।

इसके अलावा, यह शानदार मसाला रक्त-संचलन में सुधार लाता है, जिससे खराब परिसंचरण के कारण संयुक्त दर्द को रोका या कम किया जा सकता है। शोधकर्ताओं ने यह भी पाया है कि काली मिर्च दर्द और गठिया के लक्षणों की धारणा को कम करने में मदद करता है।

Black Pepper Benefits

काली मिर्च के औषधीय गुण करें कैंसर से बचाव – Black Pepper Prevents Cancer in Hindi

Black Pepper Benefits काली मिर्च में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो कि कैंसर से लड़ते हैं, विशेषकर बृहदान्त्र और ब्रेस्ट कैंसर से। मिसौरी में सेंट लुई यूनिवर्सिटी में किए गए एक अध्ययन में पाया गया कि काली मिर्च अपने महत्वपूर्ण एंटी-प्रोलिफेरेटिव गतिविधि के कारण बृहदान्त्र कोशिका प्रसार को बाधित करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, इसमें निहित पॉलीफेनॉल सामग्री उच्च रक्तचाप, मधुमेह और हृदय रोग के खिलाफ भी रक्षा प्रदान करती है।

काली मिर्च खाने के फायदे हैं डिप्रेशन में उपयोगी – Kali Mirch ke Fayde for Depression in Hindi

काली मिर्च (Black Pepper Benefits) में पिपेरीन सेरोटोनिन उत्पादन में वृद्धि करके एक एंटीडिप्रेसेंट के रूप में कार्य करता है। सेरोटोनिन मूड नियमन के लिए एक महत्वपूर्ण न्यूरोट्रांसमीटर है और सेरोटोनिन का निम्न स्तर डिप्रेशन का एक महत्वपूर्ण कारक है।

इसके अलावा, पिपेरीन मस्तिष्क में बीटा एंडोर्फिन बढ़ता है जो मानसिक स्पष्टता को प्रोतसाहित करता है। एंडोर्फिन प्राकृतिक दर्द निवारक और मूड लिफ्टर के रूप में काम करते हैं। वे तनाव को कम करते हैं और कल्याण की भावना को बढ़ावा देते हैं, जिससे चिंता और उदासी कम हो जाती है। इसलिए, अपने दैनिक भोजन में काली मिर्च को शामिल करें और अपने अपने मूड को सुधारने के साथ साथ संज्ञानात्मक कार्य में भी सुधार लाएं।

काली मिर्च बेनिफिट्स है दांत और मसूड़ों की समस्याओं का प्राकृतिक उपचार – Black Pepper ke Fayde for Oral Problems in Hindi

चूंकि काली मिर्च(Black Pepper Benefits) दर्द और सूजन को कम करने में सहायक है, आप काली मिर्च का उपयोग उसके साथी-नमक के साथ मसूड़ों में जलन व सूजन को ठीक करने में कर सकते हैं। यह खराब सांस और मसूड़ों से रक्तस्राव जैसी मौखिक परेशानियों का समाधान करने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

दांत और मसूड़ों से सम्बन्धित समस्याओं को अलविदा कहने के लिए –

  • पानी की कुछ बूंदों में नमक और काली मिर्च दोनों को बराबर मात्रा में मिलाएं और इससे अपने मसूढ़ों की मालिश करें।
  • दांत दर्द को कम करने के लिए, लौंग के तेल में काली मिर्च पाउडर की एक चुटकी मिलाकर प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं।

काली मिर्च के नुकसान – Kali Mirch ke Nuksan in Hindi

यह काली मिर्च(Black Pepper Benefits) के कुछ स्वास्थ्य लाभ हैं। लेकिन जैसा कि एक कहावत है-बहुत अच्छी चीज की भी ज्यादा मात्रा खराब हो सकती है! तो काली मिर्च के साथ भी कुछ ऐसा ही मामला है। यदि आप काली मिर्च के सेवन की मात्रा को नियंत्रण में रखें तो यह आपकी सेहत के लिए खूब अच्छा है। परंतु जिस पल आप इसका सेवन अधिक मात्रा में करेंगे, यह आपके शरीर पर नकरात्मक प्रभाव भी डाल सकता है।

उन सभी की एक सूची निम्नलिखित है –

  • चूँकि काली मिर्च (Black Pepper Benefits) स्वाभाविक रूप से उष्म होती है, इसका अत्यधिक सेवन आपके पेट में जलन पैदा कर सकता है। परंतु चिंता न करें क्योंकि यह जलन अस्थायी होती है और कुछ समय बाद, स्वयं ही ठीक हो जाती है।
  • काली मिर्च के त्वचा और ख़ास करके आँख के सीधे संपर्क से बचना चाहिए। इससे बहुत जलन हो सकती है।
  • साइक्लोस्पोरिन ए, कोलिनरगिक, डिगॉक्सिन और साइटोक्रॉम पी 450 लेने वाले मरीजों को काली मिर्च के सेवन से बचना चाहिए।
  • काली मिर्च पेट को खराब कर सकता है और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याएं भी पैदा कर सकता है। इसलिए जठरांत्र संबंधी विकारों से पीड़ित रोगियों को काली मिर्च का सेवन नहीं करना चाहिए।
  • काली मिर्च (Black Pepper Benefits) को प्रायः सूंघने से श्वसन की जलन, अस्थमा आदि जैसी श्वसन समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं।